Sanskar

बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं को अब नहीं होगी परेशानी, अमरनाथ की गुफा तक बनायीं जाएगी सड़क

जम्मू: बाबा बर्फानी के दर्शन को जाने वाले श्रद्धालुओं को कठिन यात्रा से होकर गुज़रना पड़ता है। बर्फ से ढके ऊंचे पहाड़ और उसमे संकरा रास्ता, इस यात्रा में श्रद्धालुओं को कई तरह की परेशानियों का सामना करता है। दरअसल भक्त अमरनाथ की यात्रा में 14500 फुट की ऊंचाई पर स्थित बर्फीले पहाड़ों में बनी गुफा में बनने वाले शंभू हिमलिंग के दर्शन से वंचित रहते है। हिमलिंग के दर्शन से वंचित रहने का कारण सड़क न बनना है। लेकिन अब आने वाले दिनों में अमरनाथ की यात्रा पर जाने वाले भक्तों को पैदल नहीं चलना पड़ेगा। अब यात्री अपने वाहन को गुफा के थोड़ी दूर खड़ा कर सकेंगे। बता दे इस बात की जानकारी जम्मू-कश्मीर के उप राज्यपाल द्वारा दी गयी है। उप राज्यपाल के अनुसार सीमा संगठन (बीआरओ) को अमरनाथ गुफा तक पहुँचने वाले सभी सड़क मार्ग को बनाने का आदेश दे दिया गया है। बीआरओ के अधिकारियों द्वारा सड़क निर्माण के लिए दिए गए प्रस्ताव के अनुसार एक वर्ष के दौरान उनके कर्मी सड़क की कच्ची मिट्टी को काटकर सड़क में बदल देंगें और उसके अगले वर्ष उसे पक्का कर देंगें। बीआरओ के कर्मचारियों ने इस कार्य को पूरा करने के लिए 2 वर्ष का समय माँगा है। वे दो वर्ष का समय इसलिए मांग रहे हैं क्योंकि साल में करीब 6 महीने यात्रा मार्ग बर्फ के कारण ढका रहता है।

जानकारी के लिए बता दे अमरनाथ श्राइन बोर्ड श्रीनगर से गुफा तक हेलिकाप्टर सेवा को पहले ही आरंभ कर चुका है। लेकिन अब सड़क बन जाने के बाद अमरनाथ यात्रा मार्ग पर बैटरी के द्वारा चल रही कारों को चलाने की तैयारी भी की जाएगी। आधिकारियों के अनुसार अमरनाथ गुफा पहलगाम से 45 किमी दूर तथा बालटाल से 13 किमी दूर है पर सड़क का निर्माण स्थानीय लोक निर्माण के वश का काम नहीं है लेकिन सीमा सड़क संगठन इसको पूरा कर सकता है जिसने इसके लिए कई साल पहले प्रस्ताव रखा था और अब उसे स्वीकार कर लिया गया है। हालांकि अधिकतर लोग और अधिकारी अमरनाथ गुफा तक सड़क निर्माण को असंभव मानते हैं मगर सीमा सड़क संगठन के अधिकारी दावा करते हैं कि वे आसमान के नीचे कहीं भी सड़क मार्ग बनने की क्षमता रखते हैं।

Related News