Sanskar

काशी के काष्ठ उद्योग को मिला नया जीवन, विदेशों में भी बढ़ी खिलौनों की मांग

काशी विश्वनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण के बाद वाराणसी की तस्वीर बिल्कुल अलग दिखने लगी है। यहां आने वाले पर्यटकों और प्रवासी भारतीयों को स्थानीय कारीगरों के द्वारा लकड़ी से बने श्री काशी विश्वनाथ धाम के मॉडल और शिव परिवार के साथ नंदी पर सवार भगवान भोलेनाथ की आकृति भी काफी पसंद आ रही है। इसके साथ ही इन आकृतियों की विदेशों में भी मांग काफी बढ़ गई है। गौर करने वाली बात यह है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के संसदीय क्षेत्र और काशी के विकास के लिए किए जा रहे उनके प्रयासों की बदौलत बनारस का जीआई उत्पाद, लकड़ी का खिलौना उद्योग एक बार फिर से जी उठा है। स्थानीय कारीगरों और काष्ठकारों के द्वारा बनाए जा रहे श्री काशी विश्वनाथ धाम के स्वर्ण मंडित शिखर के मॉडल की मांग बढ़ गई है। बड़ी संख्या में लोग घरों में रखने और उपहार स्वरुप देने के लिए श्री काशी विश्वनाथ धाम का मॉडल को काफी पसंद कर रहे हैं। यहां आपको बता दें कि पीएम मोदी ने 13 दिसम्बर 2021 को श्री काशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण किया था। इसके बाद से काशी आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या में लगातार इजाफा होता जा रहा है। काशी विश्वनाथ मंदिर के पुनर्निर्माण के बाद अपनी परंपरागत कारीगरी छोड़ चुके लोग एक बार फिर से इस उद्योग से जुड़ रहे हैं। इससे काशी की काष्ठकला को नयी पहचान तो मिली ही है, बड़े पैमाने पर लोगों को रोजगार के अवसर भी उपलब्ध रहे हैं।

Related News